ई-कॉमर्स कंपनियों को अपने लिए पॉजिटिव रिव्यू लिखवाने पर भारी पेनल्टी लग सकती है। 

 सूत्रों के मुताबिक कंज्यूमर मंत्रालय सोमवार को फेक रिव्यूज पर अपनी गाइडलाइंस जारी करेगा। 

इस खबर पर विस्तार से जानकारी देते हुए सीएनबीसी-आवाज के संवाददाता असीम मनचंदा ने कहा कि अब अगर ऑनलाइन ई-कॉमर्स कंपनियों से लेकर होटल और रेस्त्रां तक कोई अपनी वेबसाइट के लिए फेक और पेड रिव्यू कराएगा तो इस पर सरकार तुरंत एक्शन लेगी। 

सूत्रों के मुताबिक इसके लिए मुख्य तौर पर 3 चीजों पर फोकस होगा। इसके अलावा पेड रिव्यू के लिए अलग से पहचान भी की जाएगी

असीम मनचंदा ने आगे बताया है कि फेक रिव्यूज पर नई गाइडलाइंस जल्द जारी होंगी। सोमवार को कंज्यूमर अफेयर मंत्रालय गाइडलाइंस जारी करेगा।

ई-कॉमर्स कंपनियों पर 10 लाख से 50 लाख की पेनल्टी लग सकती है। कंपनियां अपने उत्पाद बेचने के लिए फेक रिव्यूज लिखवाती है।

कंपनियां एक-दूसरे के खिलाफ नेगेटिव रिव्यूज करवाती है। ऐसे में विभाग फेक रिव्यूज पर खुद से कार्रवाई कर सकेगा और ग्राहक खुद को ठगे जाने से बचा सकेगा । 

 Zomato, Swiggy, Nayak, Amazon and Flipkart कंपनियों पर करवाई हो सकेगी।