Sitemap क्या है और इसको कैसे Creat कर सकते है ?

Sitemap क्या है और इसको कैसे Creat कर सकते है ?

आपने देखा होगा कि कुछ Time पहले Goverment की website के link सबसे ऊपर Main Page पर हुआ करती थी. उसी Page को “Site map” कहते है.

अब भी कुछ website उसी HTML SiteMap का उपयोग करते है. परंतु समय के साथ-साथ Site map में भी काफी बदलाव आया है.

आज के समय में SiteMap को Html के स्थान पर XML में Publish करते है क्योंकि Search Engine अब Target Audience लोगों की जगह बन गया है.

बहुत से Blogger ऐसी होती है वो अभी तक Sitemap के बारे में भी नहीं जानते है.

इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना में आपको इसके बारे में जानकारी दे दूं. यदि आप यह नही जानते हैं कि Sitemap क्या होता है तो इस Post को पूरा पढ़ें.

Sitemap क्या है – what is Site Map in Hindi ?

सरल भाषा में समझा जाए तो Sitemap Simply हमारे website के पेजों का list होता है.

Google के अनुसार Sitemap वो लिस्ट होता है जो हमारे Blog या website का जिसमें Website के सभी पेजों को list किया गया होता है.

इसे Google के Search Engine खोज नहीं पाते है. जब हम उनको Sitemap में inculede नहीं किया हो.

Sitemap को Submit करना और उसे बनाने से उनको Google के अस्तित्व के बारे में पता चलता है. अन्यथा कभी भी Google उन Spider Page को Crawl नहीं करता है.

Website या Blog के लिए Sitemap बहुत जरूरी होता है क्योंकि Search Engine को website के पेजों के बारे में बताता है.

हमारे Blog में जो भी Content है और वह कितने समय में update होते है उनके बारे में जानकारी भी बताता है. Search Engine को इस जानकारी से सहायता मिलती है.

Site map के प्रकार – in Hindi ?

यहां हम यह जानेंगे कि Sitemap कितने प्रकार के होते है. वैसे तो Sitemap के दो प्रकार के होते है.

•XML Sitemap (Extensible Markup Language)
•HTML Sitemap (Hyper Text Markup Language)

यहां XML Site मैप के भी दो Part होते है.

•URL Sitemap
•Index Sitemap (वेब पेज पर Url की ending Information Provide करती है)

URL Sitemap के तीन Part होते है.

•साइट मैप For वेबपेज (इनको Community में XML Sitemap भी कहा जाता है)

•इमेज साइटमैप (वेबसाइट में उन सभी फोटो के Url और उनकी information)

•वीडियो Sitemap (Website में उन जानकारी और वीडियो की information)

WordPress XML Sitemap क्या है in Hindi ?

जिन Page को User Acces करते है उन पेजों को Sitemap कहा जाता है. XML Sitemap website के Owner, Search Engine को अपनी Website के सभी पेजों की जानकारी सूचित करता है.

XML Sitemap उनको यह भी बताता है कि कौन सी लिंक ज्यादा important है.

किन Page को कितने Regularly Update किया जाता है. Sitemap से हमारी सर्च रैंकिंग को तो बोस्ट नहीं मिलती है परंतु Search Engine हमारे website को अच्छी तरह crawl कर लेता है.

Search Engine Site Map को कैसे खोजता है ?

Search Engine बहुत ही ज्यादा Smart होते है. Sitemap को खोजने में जब भी हम कोई भी New Post Publish करते है तो एक पिंग Search Engine के पास पहुंच जाती है.

इससे Search Engine को ध्यान चलता है कि उसे Website के साइटमैप में कुछ बदलाव करता है.

Sitemap कैसे Creat करें ?

XML Sitemap उपयोग करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि हम MetaData का inclusion है.

इसका फायदा यह रहता है कि सभी पेजों के Content में Additional information भेज सकते है. Xml Sitemap को हम इस प्रकार Creat कर सकते है.

1.हमें सबसे पहले एक text file बनानी होती है. उसका Name Site map देकर उसे .xml के formate में Save करें.

2.इसके बाद हमें Search Engine को जागरूक करना है कि Sitemap Encode हुआ है.

3.इसके बाद वाले सेटअप में हम सभी संबंधित Url को जोड़ देते है. ऐसा हमें Urlset tag को बंद करने से पहले करना है.

4.जब आप Sitemap बना लेते है इनके बाद समय आता है कि इसे Site में upload करने का. यह हमेशा हमें Root Dorectory folder में ही Add करना चाहिए.

जब आप Sitemap बना रहे है तो कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

•कोई भी Url का ज्यादा से ज्यादा 2048 Characters लंबाई में होना चाहिए.

•सभी Url का Sitemap के समान ही Host होने चाहिए.

•एक साइटमैप में हम ज्यादा से ज्यादा 50,000 url तक रख सकते है.

•कोई भी Sitemap का Maximum file Size 50 मेगा बाइट्स होता है.

close

Don’t miss these tips!

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

Leave a Reply

0 Shares
Tweet
Share
Share
Share
Pin